बच्चे पैदा होने में कितना टाइम लगता है

0
5113
प्रसव में कितना टाइम लगता है

क्या आप पहले भी शिशु को जन्म दे चुकी हैं, और यह कितने समय पहले हुआ था। प्रसव के दौरान की अवस्था और गतिविधि। एकदम सीधी अवस्था में रहने और चलने-फिरने से प्रसव में तेजी लाने में मदद मिल सकती है।

हर गर्भावस्था अलग होती है, और उसी तरह प्रसव भी अलग होता है। यह पूर्वानुमान लगा पाना असंभव है कि आपका प्रसव कितना लंबा चलेगा। हालांकि, प्रसव के दौरान क्या होगा, यह पता होने से इस प्रक्रिया से गुजरने में मदद मिल सकती है।

आपके प्रसव की अवधि मुख्यत: नीचे दी गई बातों पर निर्भर करती है:

आपकी ग्रीवा का विस्फारण। आपकी ग्रीवा कितनी आसानी से खुलती है, इस बात का असर आपकी प्रसव की अवधि पर पड़ता है। जितनी जल्दी यह विस्फारित होगी, आपका प्रसव उतना ही कम अवधि का रहेगा।
आपके संकुचनों की प्रबलता। यदि आपको संकुचन प्रबल हों, तो आपका प्रसव थोड़े समय ही चलेगा।
आपने एपिड्यूरल लिया है या नहीं। एपिड्यूरल लेने से आपका प्रसव धीमा हो सकता है।
आपके शिशु की अवस्था।
आप कितनी शांत हैं। आरामपूर्वक रहने से भी प्रसव जल्दी पूरा होने में मदद मिलती है।

ये भी जाने : कही ये दवाएं आपकी सेक्स लाइफ को बर्बाद ना कर दे

ये भी जाने : इन तरीको का इस्तेमाल कर एक चुटकी में पटाये लड़की

प्रसव प्रक्रिया की अवधि इस बात पर भी निर्भर करती है कि आप प्रसव की शुरुआत होना कब से मानती हैं। कुछ महिलाएं प्रसव का शुरु होना एकदम शुरुआत से गिनती हैं, वहीं कुछ सक्रिय प्रसव की अवस्था के बाद से ही इसकी शुरुआत मानती हैं। यदि आप अपनी दोस्तों से सुनें कि उनका प्रसव दो या तीन दिन तक चला, तो वे शायद प्रसव के शुरुआती चरण या गुप्त चरण को भी इस अवधि में जोड़ रही हैं।

शुरुआती प्रसव

प्रसव के इस चरण में आपकी ग्रीवा करीब चार सें.मी. तक खुलती है और एक लंबी नलिका से अब यह एक काफी छोटी ट्यूब का रूप ले लेती है। प्रसव का एकदम शुरुआती चरण बहुत अप्रत्याशित होता है। यह बीच-बीच में शुरु और रुक सकता है। इसलिए संभावना रहती है कि आपको शायद कभी यह पता नहीं चलेगा कि वास्वत में आपने प्रसव के शुरुआती चरण में कब प्रवेश किया।

सक्रिय चरण

जब आप मजबूत और बार-बार संकुचन महसूस करना शुरु करें, तो आप सक्रिय प्रसव की अवस्था में हैं। अधिकांश डॉक्टर प्रसव की अवधि की गणना सक्रिय प्रसव की शुरुआत से करना पसंद करते हैं न कि प्रसव के शुरुआती चरण से।

आप फिल्मों और टीवी सीरियल में देखते हैं कि महिला के पानी की थैली फट जाती है और उसके संकुचन जल्दी से शुरु हो जाते हैं और उसे तुरंत अस्पताल ले जाया जाता है। मगर वास्तविकता में ऐसा होना दुर्लभ ही है, खासकर यदि यह आपका पहला शिशु हो तो। आपकी पानी की थैली सामान्यत: तभी फटती है, जब आप शिशु को बाहर लाने के लिए जोर लगाना शुरु करती हैं।

फिर से, प्रसव के शुरुआती चरण की तरह ही, यह बता पाना भी मुश्किल है कि आपका सक्रिय प्रसव वास्तव में किस समय से शुरु हुआ। यह भी हर महिला के साथ अलग-अलग होता है। सक्रिय प्रसव में संकुचन नियमित, प्रबल, बार-बार और लंबे होते जाते हैं।

आपके संकुचन शायद हर तीन या चार मिनट में होंगे और पांच से 60 सैकंड के बीच जारी रहेंगे। इस समय तक, आपकी ग्रीवा करीब चार सें.मी. (1.6 इंच) तक विस्फारित हो चुकी होगी। पहली डिलीवरी में, पर्याप्त संकुचन शुरु होने पर ग्रीवा आमतौर पर प्रति घंटे एक सें.मी. विस्फारित होती है।

यदि यह आपका पहला शिशु है, तो औसत अनुमान के अनुसार सक्रिय प्रसव में आठ घंटों का समय लग सकता है। बहरहाल, यह इससे काफी कम या ज्यादा भी हो सकता है। ऐसा बहुत ही कम होता है कि प्रसव 18 घंटों से ज्यादा समय तक जारी रहे। जब आपकी ग्रीवा 10 सें.मी. तक विस्फारित हो गई होती है, तो आपको शायद शिशु के जन्म से पहले एक या दो घंटों तक जोर लगाना पड़ सकता है।

ये भी जाने : स्त्री-पुरुष के बीच सन्तोषजनक सहवास आमतौर पर 3 से 12 मिनट का होता है।

हालांकि, यदि यह आपका पहला शिशु नहीं है, तो इस बार आपका प्रसव शायद काफी जल्दी समाप्त हो जाएगा। इस स्थिति में, सक्रिय प्रसव में औसतन पांच घंटे लगेंगें। ग्रीवा भी शायद अच्छे संकुचन होने पर 1.5 सें.मी. प्रति घंटे की दर से विस्फारित होगी। इसके 12 घंटों से कम समय तक चलने की संभावना रहती है। शिशु को बाहर लाने के लिए जोर लगाने के प्रयास केवल पांच से 10 मिनट तक चलते हैं। शायद ही इसमें एक घंटे से अधिक का समय लगे।

प्रसव से जुड़े कागजात पर आपके प्रसव की अवधि के बारे में लिखा जाएगा। यहां प्रसव की अवधि की गणना उस समय से की जाती है जब आपकी ग्रीवा करीब चार सें.मी. तक विस्फारित हो चुकी होती है और 10 सें.मी. (चार इंच) तक विस्फारित हो चुकी होती है। 10 सें.मी. विस्फारित होने का मतलब है कि ग्रीवा पूरी तरह खुल चुकी है और आप शिशु को बाहर निकालने के लिए जोर लगाने के लिए तैयार है।

गर्भावस्था की तरह हर महिला के प्रसव का अनुभव अलग है। हो सकता है 10 सें.मी. का विस्फारण होने के बाद भी आपको जोर लगाने की इच्छा महसूस न हो। ऐसा तब अधिक संभव है जब आपने एपिड्यूरल लिया हो। जब ग्रीवा के 10 सें.मी. तक विस्फारित होने के बावजूद भी आपको जोर लगाने की इच्छा महसूस न हो, तो इसे प्रसव की “निष्क्रिय” (पैसिव) दूसरी अवस्था कहा जाता है।

यदि आपने एपिड्यूरल लिया हो, तो यह विराम आपके लिए खासकर फायदेमंद हो सकता है। यह आपके शिशु को प्रसव नलिका में थोड़ा और नीचे की तरफ आने का अवसर देता है, जिससे प्रसव की सक्रिय दूसरी अवस्था शुरु होना आसान हो जाता है। इसी समय डॉक्टर आपको अपने संकुचनों के साथ जोर लगाने के लिए प्रोत्साहित करेंगे या फिर जोर लगाने की इच्छा इतनी तीव्र होगी कि आप खुद को रोक नहीं पाएंगी।

प्रसव की तीसरी अवस्था

प्रसव की तीसरी अवस्था शिशु के जन्म के बाद शुरु होती है। इस चरण में अपरा (प्लेसेंटा) खुद को गर्भाशय से अलग करती है। इस चरण की अवधि इस बात पर निर्भर करती है कि आपकी तीसरी अवस्था प्राकृतिक हो रही है या फिर किसी सहायता से।

औसतन, प्राकृतिक या सहायता प्राप्त तीसरे चरण में करीब 10 से 15 मिनट का समय लगता है। हालांकि, प्राकृतिक तीसरी अवस्था में एक घंटे तक का भी समय लग सकता है और सहायता प्राप्त तीसरा चरण आधे घंटें में ही पूरा हो सकता है।

बहुत कम ऐसा होता है कि प्रसव प्रक्रिया बहुत जल्दी पूरी हो जाए। यह तब अधिक संभव है जब आप पहले भी शिशु को जन्म दे चुकी हों। हमेशा अपनी आंतरिक आवाज पर विश्वास करें और सुनें कि आपका शरीर आपसे क्या कर रहा है।

हालांकि, यह बात भी ध्यान रखें कि कुछ शिशु बिल्कुल भी इंतजार करना नहीं चाहते और आपके अस्पताल पहुंचने से पहले ही दुनिया में उनका आगमन हो जाता है।

source : babycenter.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here