शीघ्रपतन के घरेलू इलाज आज ही दूर करें शीघ्रपतन

0
3013
loading...

शीघ्रपतन या समयपूर्व स्खलन पुरुषों की sexual life में होने वाली एक गंभीर समस्या है। यह समस्या ज्यादातर 40 साल से कम उम्र के पुरुषों में होती है और इसके कारण उनके वैवाहिक जीवन पर काफी बुरा असर पड़ता है।

शीघ्रपतन से गुजरने वाले ज्यादातर लोग अपनेआप से काफी निराश हो जाते हैं और कुछ लोग तो कोई गंभीर कदम भी उठा लेटे हैं। लेकिन आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह समस्या काफी सामान्य है और लगभग हर अपने जीवन में काफी न काफी इस समस्या का अनुभव करता है।

शीघ्रपतन के मनोवैज्ञानिक कारक

ज्यादातर शीघ्रपतन की समस्या कुछ मनोवैज्ञानिक कारणों के कारण होती है जैसे

  • अत्यधिक तनाव या डिप्रेशन
  • सेक्स का अनुभव कम होना
  • सेक्स से पहले अत्यधिक उत्तेजित होना
  • पार्टनर के साथ संबंधों में कोई तनाव होना
  • अपनेआप को दोषी या अशक्षम अनुभव करना

शीघ्रपतन के मेडिकल कारक

कुछ मेडिकल समस्यायों के कारण शीघ्रपतन होना काफी कम देखा जाता है। इसमें से कुछ दुर्लभ मामलों में यह समस्या काफी गंभीर भी हो सकती है, जैसे किसी सर्जरी या शारीरिक आघात के कारण तंत्रिका तंत्र का कमजोर हो जाना

नीचे शीघ्रपतन होने के मुख्य मेडिकल कारक दिए जा रहे हैं।

  • मधुमेह (डायबिटीज)
  • प्रोस्टेट ग्रंथि में कोई रोग होना
  • उच्च रक्तचाप (हाइपरटेंशन)
  • थायरॉयड की समस्या
  • अवैध ड्रग का सेवन
  • अत्यधिक शराब का सेवन
  • अत्यधिक धूम्रपान
  • मल्टीपल स्क्लेरोसिस

शीघ्रपतन के लक्षण

इसका सबसे सामान्य लक्षण होता है – सेक्स के दौरान अपनी या अपने पार्टनर की यौन इच्छा (sexual desire) पूरी होने से पहले ही स्खलित हो जाना।

शीघ्रपतन के बाद पुरुष और उसके पार्टनर को कुछ secondary symptoms भी अनुभव होते हैं। यह निम्न हैं –

  • असंतोष और हताशा की भावना का अनुभव होना
  • आत्मविश्वास में कमी आना
  • दिमागी डिप्रेशन और चिंता का अनुभव होना
  • अपनेआप से शर्मिंदगी महसूस होना

शीघ्रपतन के घरेलू आयुर्वेदिक इलाज

मुनक्का का प्रयोग – मुनक्का शरीर की खून की कमी को दूर करके वीर्य बढ़ाने में मदद करता है।

  • रात को सोने से पहले 60 ग्राम मुनक्का को पानी में भिगोकर रख दें।
  • सुबह उठकर इसको चबाकर खाएं।
  • इसे दो-तीन महीने के लिए रोज करें।

यह आपके वीर्य को बढ़ाने के साथ-साथ अन्य सेक्सुअल समस्यायों से छुटकारा भी दिलाएगा। धीरे-धीरे आप मुनक्का की मात्रा को 200 ग्राम तक भी ले जा सकते हैं।

जामुन का प्रयोग – जामुन वीर्य को गाढ़ा करती है और इसे बढ़ाती भी है। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि जिन पुरुषों का वीर्य पतला होता है वो थोड़ी सी उत्तेजना में ही स्खलित हो जाते हैं और शीघ्रपतन का शिकार हो जाते हैं। इसलिए लम्बे समय तक सेक्स करने के लिए रोज शाम को 5 ग्राम जामुन की गुठलियों के पाउडर को एक गिलास दूध में मिलाकर पिए।

दालचीनी – दालचीनी को पीसकर बारीक पाउडर तैयार करें। रोज रात को एक चम्मच दालचीनी को एक गिलास दूध में मिलाकर पियें। यह दूध को पूरी तरह सोखने में शरीर की मदद करती है और वीर्य की मात्रा बढाती है।

बादाम – शीघ्रपतन के रोगियों के लिए बादाम काफी लाभकारी होता है।

  • 6 बादाम को 6 काली मिर्च और 2 ग्राम सूखे अदरक के साथ मिलाकर खाएं।
  • इसके बाद ऊपर से एक गिलास दूध पी लें।

छुहारे – छुहारे खाने से भी शीघ्रपतन और पतले वीर्य की समस्या दूर होती है। रोज 5 ग्राम छुहारे का सेवन करें।

चना – अंकुरित चने या भुंजे हुए चने खाएं और उसके बाद दूध पियें। यह भी वीर्य को बढ़ाते हैं। ऐसा नियमित रूप से रोज करें।

तुलसी के बीज – तुलसी के बीजों को पीसकर पाउडर बना लें। अब रोज 3 ग्राम पाउडर और गुड़ को दूध में मिलाकर सेवन करें। तुलसी के बीजों को पान में रखकर खाने से भी शीघ्रपतन की समस्या दूर होती है।

ऊपर दिए गए प्राकृतिक उपायों को अपनाकर आप शीघ्रपतन और पतले वीर्य की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। लेकिन इसके लिए आपको धैर्य के साथ इनको इयामित अपनाना जरुरी है। इसके साथ ही अपनी जीवन शैली पर भी ध्यान दें। शराब और धूम्रपान का सेवन न करें। नियमित योग और व्यायाम करें।

शीघ्रपतन रोकने के घरेलू व्यायाम

यहाँ पर दो सेक्सुअल व्यायाम दिए जा रहे हैं जिनको प्रैक्टिस करके आप अपने स्खलन के समय को बड़ा सकते हैं। इन व्यायामों को घर पर ही अकेले में बिना किसी मेडिकल सलाह के किया जा सकता है।

  1. प्रारंभ और रोक विधि (The start-and-stop method) – इस व्यायाम का मुख्य उद्देश्य होता है आपका अपने स्खलन पर नियंत्रण स्थापित करना। सेक्स या हस्तमैथुन के दौरान जब आप लगभग स्खलित होने वाले हों तब रुक जाएँ और कुछ देर के आराम करें। दोबारा सेक्स करने पर फिर से ऐसा करें। ऐसा एक बार में कम से कम चार बार करें। ऐसा नियमित करने से आपका स्खलन का समय धीरे-धीरे बढ़ने लगेगा और इससे आपको सेक्स का सुख भी अपनी चरण सीमा तक प्राप्त होगा।
  2. निचोड़ विधि (The squeeze method) – यह विधि भी ऊपर की विधि की तरह होती है लेकिन इसमें आपको अपने लिंग को हिलाने की जगह softly मसलना होता है। पहले लिंग के सबसे ऊपरी भाग को हाथ से पकड़ लें और उसे धीरे-धीरे मसलें या मालिश करें। जब आप लगभग स्खलित होने वाले हों तो रुक जाएँ और कुछ देर तक आराम करने के बाद फिर से शुरू हो जाएँ। यह काम आप अपने पार्टनर से भी करवा सकते हैं। इसे भी नियमित रूप से करने से आपका स्खलन का समय धीरे-धीरे बढ़ जायेगा।

ऊपर दिए गए उपचारों को नियमित रूप से करें और यदि फिर भी फायदा न मिले तो अपने डॉक्टर से जाँच कराएँ। हो सकता है फिर आपको कोई मेडिकल समस्या हो।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here