पुरूष कंडोम क्या है और उसके उपयोग क्या है ?

0
891
पुरूष कंडोम क्या है और उसके उपयोग क्या है
loading...
पुरूष कंडोम क्या होता है? पुरूष कंडोम वह थैली है जो कि पुरूष के खड़े लिंग पर चढ़ाने के लिए बनाई जाती है। यह किस चीज से बनाई जाती है?  अधिकतर कंडोम लेटैक्स रबर से बनाए जाते है।

कंडोम के उपयोग के क्या लाभ होते हैं?

कंडोम के उपयोग के निम्नलिखित लाभ हो सकते हैं –

  1. जब नियमित रूप से और सही रूप से कंडोम का इस्तेमाल किया जाता है तो वह सबसे अधिक भरोसे की विधियों में से एक है जिनसे जन्म पर नियन्त्रण बनता है।
  2. इनका उपयोग उपभोक्ता के लिए सरल है। थोड़े से अभ्यास से वे इसका उपयोग करके सम्भोग के आनन्द से आत्मविश्वास पा सकते हैं।
  3. कंडोम की जरूरत तभी पड़ती है जबकि आप सम्भोग करना चाहते हैं जबकि अन्य गर्भनिरोधक आपको हर समय लेने पड़ते हैं या धारण करने पड़ते हैं।
  4. कंडोम एकमात्र ऐसा साधन है जो कि यौन सम्बन्धों से फैलने वाले रोगों को फैलने से रोकता है इनमें एच आई वी भी शामिल हैं जब उनका नियमित और सही इस्तेमाल हो।
  5. किसी भी उम्र के पुरूष इसे धारण कर सकते हैं।
  6. सरलता से उपलब्ध होते हैं और सभी जगह मिलते हैं।

एक कंडोम के उपयोग की हानियां क्या हो सकती हैं?

कंडोम के उपयोग की हानियां निम्नलिखित हैं –

  1. जिन लोगों को लेटैक्स से अलर्जी होती है उन्हें खुजली दे सकता है।
  2. सम्भोग के समय कंडोंम के फट जाने या खिसक जाने की आशंका रह सकती है।
  3. यदि वैसलीन या तेल से चिकना करके इस्तेमाल किया जाए तो कंडोम कमजोर पड़ सकता है या टूट सकता है।

गर्भ से सुरक्षा देने में कंडोम कितना प्रभावशाली है?

यदि 100 महिलाओं के साथी नियमित रूप से और सही रूप से कंडोम का उपयोग शुरू करते हैं तो पहले वर्ष में 100 में से 3 गर्भधारण होते हैं। यदि उपयोग अनियमित हो या सही न हो तो 14 गर्भधारण की सम्भावना हो सकती है।

गलत या अनुचित उपयोग के क्या सम्भावित कारण हो सकते हैं?

निम्नलिखित कारणों से इसका गलत या अनुचित उपयोग हो सकता है – लिंग के पूरी तरह खड़े होने से पहले ही कंडोम पहन लेने के कारण या कंडोम को पूरा ऊपर तक न पहनने के कारण आदि।

कंडोम के उपयोग को सही करने की क्या तकनीक है?

कंडोम के सही उपयोग की विधि इस प्रकार है –

  1. सुनिश्चित करें कि पैकेट और कंडोम अच्छी स्थिति में हैं, यदि उस पर समाप्ति की तारीख दी हो तो ध्यान दें कि कहीं तारीख निकल तो नहीं चुकी।
  2. पैकेट को एक कौने से खोलें, ध्यान दें कि अपने नाखूनों, दांत से या बड़ी बरूखी से कंडोंम को साथ में न काट दें।
  3. रोल किए हुए कंडोम को अपने खड़े लिंग के टिप पर रखें।
  4. उसे नीचे की ओर लिंग के मूल आधार तक पूरा खोल दें, अगर कोई हवा के बब्बल आ गए हैं तो उन्हें निकालें (हवा के बबूले कंडोंम को तोड़ सकते हैं)
  5. ऊपर कंडोम के टिप पर कम से कम आधा इंच जगह छोड़ दें ताकि विर्य उसमें एकत्रित हो सके।
  6. यदि आपको कुछ चिकनापन चाहिए तो उसे कंडोम के बाहर लगाएं। परन्तु हमेशा जल आधारित चिकनाई का प्रयोग करें (जैसे कि ‘के वाई’ जैली जो कि दवा की दुकान पर आमतौर पर मिल जाती है) तेल आधारित चिकनाई जैसे वैसलीन/बेबी ऑयल। नारियल तेल का उपयोग न करें क्योंकि इससे लेटैक्स टूट सकता है।

यदि रोल किया हुआ कंडोम खुले न तो क्या करना चाहिए?

कंडोम को लिंग के ऊपरी भाग पर रिम से रोल करते हुए सरलता से और कोमलता से खोलना चाहिए। यदि आपको उससे जुझना पड़े तो या कुछ सैकेन्ड से अधिक समय लगे तो सम्भवतः इसका अर्थ है कि आप उसे उल्टा चढ़ा रहे हैं। कंडोम को उतारने के लिए उसे ऊपर तक वापिस रोल नहीं करना है। रिम से उसे पकड़ो और खींच लो और फिर दूसरा नया कंडोम चढाओ।

कंडोम को कब हटाना चाहिए?

लिंग के ढीले पड़ने से पहले उस खींचना है और कंडोम को लिंग के अन्त में रोको, ध्यान पूर्वक खोंचो कि वीर्य बाहर की ओर बिखरे नहीं।

कंडोम को फेंकना कैसे चाहिए?

कंडोम को सही तरीके से फेंकना चाहिए – उदाहरणतः किसी कागज या टिशू में लपेट कर फेंकना चाहिए। उसे टॉयलेट मे डालना उचित नहीं – यह प्राकृतिक रूप से घुलता नहीं इसलिए सीवर को बन्द कर सकता है।

यदि सम्भोग करते हुए कंडोम फट जाए तो क्या करना चाहिए?

यदि सम्भोग करते समय कंडोम फट जाए, तो जल्दी से उसे उतारें और दूसरा लगायें। सम्भोग करते हुए, समय-समय पर कंडोम को देखते रहें कि कहीं वह खिसक न जाए या फट न जाए। यदि कंडोम फट जाए या आप को लगे कि सम्भोग के दौरान वीर्य बाहर निकल गया है तो आपातकालीन गर्भनिरोधक लेने पर विचार करें जैसे कि सुबह उठते ही गोली ले लेना।

क्या एक की अपेक्षा दो कंडोम अधिक प्रभावशाली रहते है?

  1. एक ही समय में दो कंडोम का उपयोग न करें, क्योंकि जब दो लेटैक्स आपस में पगड़ खायेंगे तो फट जायेंगे।
  2. कृपया कंडोम की देखभाल से सम्बन्धित कुछ टिप्स बतायें।
  3. सम्भव हो सके तो कंडोम को ठन्डे अंधेरे स्थान पर रखें।
  4. कंडोम को अतिरिक्त गर्मी, रोशनी और हुमस से बचायें।
  5. सावधानी से पकड़ें। नाखून और अंगूठी उसे हानि पहुंचा सकते हैं।
  6. उपयोग से पहले उसे खोले नहीं, इससे वे कमजोर हो जाते हैं और खोले बिना भी चढ़ाना कठिन है।


यदि कंडोम अथवा चिकनाई से जननेन्द्रिय मे खुजली या रैश हो जाए तो क्या करना चाहिए?

यदि कंडोम अथवा चिकनाई से जननेन्द्रिय में खुजली या रैश हो जाए तो निम्नलिखित उपचार करें –

  1. पानी को चिकनाई की तरह इस्तेमाल करने का प्रयास करें
  2. खुजली और एलर्जी तो नहीं है इसके लिए डाक्टर के पास जायें।

यदि कंडोम चढाते हुए या उसका उपयोग करते समय किसी पुरूष का लिंग खड़ा नही रह पाता तो क्या करना चाहिए?

ऐसी स्थिति मे निम्नलिखित करें –

  1. स्परमिसिड के बिना वाले सूखे कंडोम का उपयोग करने का प्रयास करें।
  2. अपनी साथी महिला साथी से उसे चढ़ाने के लिए कहें जिससे उसके प्रयोग से ज्यादा मजा आयेगा।
  3. लिंग पर अधिक पानी जल आधारित चिकनाई जैसे कि के वाई जैली का प्रयोग करें और कंडोम चढे लिंग पर बाहर से अधिक चिकनाई लगायें।
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here